इन्वर्टर खरीदने से पहले जानलें ये बातें Know these things before buying inverter or USB

इन्वर्टर के बारे में जानें कुछ महत्वपूर्ण बातें Some Important Things About Inverter-

इन्वर्टर तपती गर्म दोपहर या उमस भरी रात में बिजली का चला जाना किसी सजा से कम नहीं होता।गर्मी बढ़ते ही इन्वर्टर की जरूरत होती है. गर्मी शुरू सभी जगह लोड शेडिंग (बिजली कटौती) या फिर पावर फॉल्‍ट भी ज्यादा होने लगता है और ऐसे में गर्मियों तीन – चार महीने सुकून की जिंदगी पाने का एक मात्र उपाय इन्‍वर्टर है।

आजकल बाजार में ब्रांडेड कंपनियों से लेकर लोकल मेड इन्‍वर्टर मिलते हैं। जिनकी अपनी अपनी खासियत और कीमत होती है तथा साथ ही आपकी अलग अलग जरूरत के हिसाब से इनकी वैरायटी भी अलग होती है। अगर आप भी इन गर्मियों में खरीद रहे हैं इन्वर्टर तो खरीदने से पहले कुछ बातो पर जरूर ध्यान दें.

जरूरत के अनुसार करें इन्वर्टर का चयन Inverter Selection as Per Requirement –

इन्वर्टर खरीदने से पहले यह जानना जरूरी है कि आपकी जरूरत क्‍या है। एक बात का हमेशा ध्‍यान रखें कि इन्वर्टर सीमित मात्रा में पावर बैकअप देता है। यह सामान्‍य बिजली की तरह आपके घर को पावर बैकअप नहीं दें पाता है। ऐसे में आपका घर कितना बड़ा है,आपको कितने पंखे या बल्‍ब चलाने हैं, आपके पास इलेक्ट्रिकलऔर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स उपकरण कितनेहैं जिनके लिए आपको पावर बैकअपकी जरूरत है। बाजार में कई हैवी इन्‍वर्टर मौजूद हैं, जो आपके एसी औरफ्रिज जैसे इक्विपमेंट भी चला सकते हैं।इसलिए आपको जैसी जरुरत है वैसा ही इन्वर्टर खरीदें.

कैसे चुने एक अच्छा Inverter

खरीदने से पहले जाने इन्वर्टर के प्रकार Types of Inverter –

मार्किट में मिलने वाले इनवर्टर 2 प्रकार के होते हैं। पहला मॉडिफाइड साइन वेव और दूसरा प्योर साइन वेव इनवर्टर. मॉडिफाइड साइन वेव इनवर्टर हालांकि सस्ते होते हैं, पर इनका पावर बैकप कम होता है साथ ही इनमें से आवाज भी आती है। मॉडिफाइड साइन वेव इन्वर्टर से गर्मी के रूप में बिजली का भी बहुत नुकसान करते हैं। ये कुछ संवेदनशील इलेक्ट्रॉनिक चीजों के लिए भी नुकसानदायक हो सकते हैं। वहीं प्योर साइन वेव इनवर्टर थोड़ा महंगे जरूर होते हैं, पर यह सबसे अधिक कार्यकुशल होते हैं। यह हाई एनर्जी कंजम्‍प्‍शन वाले उपकरणों को चलाने में भी पूरी तरह से सक्षम होता है। अगर आप के पास ऑडियो सिस्टम और वीडियो गेम जैसे उपकरण हैं तो उनके लिए भी प्योर साइन वेव इन्वर्टर ज़्यादा अच्छे होते हैं।

समझदारी से करें बैट्री का चयन Selection of Battery –

इन्‍वर्टर का सबसे महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा होता है उसकी बैटरी। आमतौर पर इन्‍वर्टर के साथ बैटरी अलग से खरीदनी पड़ती है। पर कुछ ब्रांडेड कंपनियां ऐसी भी हैं जो इन्‍वर्टर और बैटरी एक साथ भी बेचती हैं। लेकिन दोनों ही परिस्थितियों में आपको बैटरी का चयन करने में समझदारी से काम लेना होगा।  बाजार में उपलब्ध बैटरी मुख्यतः 3 प्रकार कि होती हैं। पहली फ्लैट प्लेट बैटरी, दूसरी ट्यूबलर बैटरी और तीसरी ड्राई या फिर रखरखाव मुक्त बैटरी। इन तीनो बैटरियों में फ्लैट प्लेट बैटरी सबसे सस्ती बैटरी होती हैं, लेकिन उसकी लाइफ बहुत कम होती है और काफी देखभाल की आवश्यकता पड़ती है। रखरखाव मुक्त बैटरी की लाइफ इनसे कुछ ज्‍यादा होती है, लेकिन रखरखाव कम और अधिक लागत की होती हैं। ऐसे में ट्यूबलर बैटरी सबसे बेहतर होती है। इनकी लाइफ लंबी और देखभाल कम करनी होती है।

इन्वेर्टर या होम यूपीएस Inverter and Home UPSS-

आजकल बाजार में इन्‍वर्टर के साथ ही नया सेगमेंट होम यूपीएस और आ गया है। यह इन्‍वर्टर और यूपीएस दोनों का ही काम करता है। होम यूपीएस डीसी करंट को एसी करंट में बदलकर पावर बैकअप के रूप में यूज़ करता है।अनइंटरेप्‍टेड पावर सप्‍लाई (यूपीएस) के चलते इक्विपमेंट के मेन स्विच से बंद होने या फ्ल‍क्‍चुएट होने की संभावना नहीं होती। सामान्‍य इन्‍वटर्र जहां स्विच होने में 500 मिली सेकेंड का वक्‍त लेता है। वहीं होम यूपीएस मात्र 3 से 5 सेकेंड में स्विच कर जाता है।

इन्वर्टर बैटरी की वॉरंटी और सर्विस सपोर्ट Inverter Battery Warranty and Service Support –

ये तो आप जानते ही हैं कि इन्‍वर्टर का यूज़ सबसे ज्यादा होता है। इसलिए खरीदारी के समय इसकी बैटरी और मशीनरी की अलग अलग वॉरंटी और गारंटी के बारेमें जरूर पुछले। वॉरंटी होने पर कंपनी खराबी आने पर वहीं गारंटी होने पर आपको नया प्रोडक्‍ट मिलता है। सामान्‍यतया इन्‍वर्टर पर आपको 5 से 7 साल तक की वारंटी मिल सकती है। लेकिन बैटरी के मामले में आपको 2 से 4 साल की गारंटी ही मिलती है।

लेकिन खरीदारी के समय ध्‍यान रखें कि आप जिस भी कंपनी का इन्‍वर्टर खरीद रहे हैं उसका सर्विस सेंटर आपके शहर या कस्‍बे में है या नहीं। अगर ऐसा नहीं हुआ तो वारंटी या गारंटी होने के बावजूद भी यह आपके लिए खर्चीला सौदा साबित हो सकता है। उसकी फ्री मेंटेनेंस करती है।

जिन इन्वर्टर में सोलर पैनल होता है ऐसे इन्वर्टर सर्किट्स जैसी समस्याए नही आने देते हैं, इसलिए आप इन्हे भी खरीद सकते हैं. कई इन्वर्टर में पहले से ही वोल्टेज स्टेबलाइजर होते है जो एप्लायंस को वोल्टेज फ्लक्चुएशन (fluctuations) से बचाते है। अर्थ लीकेज प्रोटेक्शन वाले इन्वर्टर इलेक्ट्रिक शॉक लगने से बचाते है और एप्लायंसेज को ख़राब होने से बचाते है। अगर हो सके तो ब्रांडेड इन्वर्टर ही ख़रीदे इनकी बैटरी लंबे समय तक चलती  है।