आलस दूर करने के नुस्खे Laziness Cure‎ tips

आलस्य दूर करने के उपाय तथा कारण Aalas dur karane ke gharelu tips

आलस्य दूर करने के उपाय तथा कारण Aalas dur karane ke gharelu tips upcharnuskheआज के समाज की जीवन शैली के कारण इंसान में आलस्य आने लगा है. आज के तकनीकी व आधुनिकी युग में बहुत से कार्य करने इतने आसान हो गये हैं कि मनुष्य को शारीरिक श्रम नहीं करना पड़ता है. वर्तमान में अधिकांश लोग आलस के शिकार होते हैं यह मानव समाज का एक ऐसा रोग है जिससे बाहर निकलना मुश्किल होता है. यह रोग किसी भी इंसान को हो सकता है. यदि शरीर में कभी-कभी आलस्य आ जाए तो यह स्वाभाविक माना जाता है कि शरीर को कभी कभी विश्राम की आवश्यकता पड़ती है.

जब आलस्य इंसान का व्यक्तित्व प्रभावित करता है तो वह धीरे धीरे आलस्य का आदी बनता जाता है जिसके कारण उसके लिए इस समस्या छुटकाड़ा पाना भी बड़ा कठिन हो जाता है. आलस्य एक ऐसा शब्द है जो व्यक्ति को किसी भी क्षेत्र में आगे नहीं बढ़ने देता है. जो मनुष्य आलस से घिरा होता है उसे हर कार्य करने के लिए उससे टालने की आदत बन जाती है. उसका परिणाम यह होता है कि जीवन के किसी भी मैदान में सफल नहीं हो पाता है. इस समस्या से निपटने के लिए हम कुछ घरेलु उपायों की मदद लें सकते हैं. जो बहुत ही आसान तथा सरल होते हैं.

आलस आने के कारण

आज की दुनिया की जीवन शैली इंसान में आलस्य का एक बहुत बड़ा कारण है. वर्तमान के तकनीकी व आधुनिकी युग में सभी काम करने इतने सरल हो गए हैं की इंसान को कोई विशेष शारीरिक परिश्रम ही नहीं करना पड़ता है. जब मनुष्य शारीरिक परिश्रम नहीं करता तो धीरे-धीरे उसमे आलस की प्रवृति आने लगती है. जिसके कारण वह आलसी बन जाता है.

आलस दूर करने के उपाय

आलस दूर करने के लिए सोने का समय निश्चित करें

रोजाना सोने का एक नियमित शेड्यूल होना बहुत आवश्यक होता है. प्रत्येक दिन एक ही समय में बिस्तर पर सोने और एक ही समय पर उठने की आदत होनी अनिवार्य है. रोजाना कम से कम आठ घंटे की नींद लेनी अनिवार्य है. जिससे आलस जैसी समस्या से छुटकारा पाया जाता है.

आलस दूर करने के लिए हल्‍का भोजन

फैट, शुगर और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर भोजन करने से भी आलस आने लगता है. इसके अलावा ग्लाइसेमिक खाद्य पदार्थों से दूर रहें क्‍योंकि यह रक्त शर्करा के बढ़ने के साथ आपमें अस्‍थायी ऊर्जा को बढ़ाता है. रोजाना अपने आहार में हल्का भोजन करें. इससे आलस की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है.

आलस दूर करने के लिए एक्‍सरसाइज के फायदे

एक्‍सरसाइज करने से शरीर के साथ-साथ हमारा दिमाग भी स्वस्थ रहता है. रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करने से आलस की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है. व्यायाम करने से रक्त परिसंचरण बेहतर और चयापचय कार्य भी सुचारु प्रकार से होते हैं. प्रतिदिन 15 मिनट एक्‍सरसाइज जरूर करें.

आलस दूर करने के लिए थोङा इधर उधऱ टहले

आलस आने पर आप थोड़ा इधर उधर टहलने जाए. इसके अलावा आँख के व्यायाम को करने की कोशिश करें. इससे जब भी आपको आलस आएगा तो आप अधिक तरोताजा महसूस करेंगे और बाकी दिन का सामना करने के लिए खुद में अतिरिक्त उत्साहित पाएंगे.

आलस दूर करने के लिए लाभ और परिणाम के बारे में सोचें

जो भी आप काम करते हैं. उस काम पर अपना ध्यान लगाए. यह सोचे की आलस आने पर आप कुछ नहीं कर पाएंगे. इसलिए अपने मन से आलस की भावना को निकालकर अपने काम को अच्छी तरह करें. इससे आपका काम भी हो जायेगा और आलस को भी दूर किया जा सकता है.

अपने फायदे के बारे में सोचे

जब भी आपको आलस महसूस हो तो आप यह सोचे की आलस ना करने से आपको बहुत फायदा हो सकता है. किसी भी काम को करने के लिए उसकी बुराई के बारे में ना सोचे बल्कि यह सोचे की आपको उस काम से कितना फायदा होने वाला है. इससे आप आलस को दूर कर सकते हैं.