आपकी सोच बदल देगी ये वीडियो | Powerful Motivational Story | Inspirational Speech

सकारात्मक कैसे बने प्रेरणादायक कहानी Motivational Stories for success life

ये तो अपने सुना ही होगा कि ये पूरी दुनिया सोच पर टिकी है. सोच आपकी जिंदगी में महत्वपूर्ण किरदार निभाती है ये सकारात्मक भी होती है तो नकारात्मक भी, लेकिन एक जैसे ही लगने वाले इन शब्दों में जमीन आसमान का फर्क है. सकारात्मक सोच आपको  जीवन में आगे ले जाती है और वही नकारात्मक सोच कभी भी जीवन में आगे नहीं बढ़ने देती. सकारात्मक सोच से व्यक्ति हमेशा खुश रह सकता है और नकारात्मक सोच से व्यक्ति अवसाद से घिर जाता है दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी ही मोटिवेशनल स्टोरी की और लेकर जा रहे है.

मोटिवेशनल कहानी –

एक बार की बात है. पिताजी अपनी बेटी को बाजार घुमाने ले गए, बाजार में तरह-तरह की चीजें थी. लेकिन बेटी ने एक बार भी किसी चीज के लिए जिद नहीं की.. पिता ये सब देख बहुत खुश थे. लेकिन तभी बेटी की नजर सेब से भरे एक ठेले पर पड़ी । बेटी ने अपने पिताजी को कहा पिताजी मुझे भूख लगी है आप मुझे सेब दिलादो.

अपनी बेटी के कहने पर पिताजी गए और दो सेब खरीदकर अपनी बेटी को दे दिए. बेटी बहुत खुश थी. अब उसके दोनों हाथो में एक एक सेब था. पिताजी ने अपनी बेटी से पूछा – बेटी क्या तुम मेरे साथ एक सेब बाँट सकती हो? क्या आप मुझे इस सेब का सिर्फ एक टुकड़ा दे सकती हो.

अपने पापा की बात सुनते ही बेटी ने  एक सेब का टुकड़ा खा लिया। इससे पहले उसके पिताजी कुछ और कहते उसने दूसरे सेब का टुकड़ा भी खा लिया। ये सब देखकर उसके पिताजी हैरान हो गए उन्हें बहुत दुःख हुआ कि उनकी बेटी अभी से उनके साथ ऐसा क्यों कर रही है .

और वो अपने मन ही मन सोचने लगे – आखिर मेने अपनी बेटी को ये कैसे संस्कार दिए है. मेरी इतनी छोटी सी बेटी के अंदर लालच की भावना कहा से पैदा हुई.  शायद इन सबकी वजह मै ही हु मेरे ही ज्यादा लाड प्यार से ये बिगड़ गयी है. वो मन ही मन ये सब बातें सोच रहे थे तभी बेटी ने अपने पापा को एक सेब बढ़ाते हुए कहा पापा ये लोग आप ये सेब खाएये ये सेब इस दूसरे सेब से ज्यादा मीठा और रसीला है. तो आप ये मीठा सेब खाइये.अपनी बेटी की अब ये बात सुनकर वो कुछ भी नहीं कहा पाए उन्हें अपनी सोच पर बहुत बुरा मह्सूस हो रहा था.

वो सोचने लगे मेने अपनी बेटी के लिए कुछ सोच बिना ही उसके बारे में अपनी गलत राय कैसे बना ली. लेकिन वो अपनी बेटी के इस प्यार से बहुत खुश भी था.

सिख –

दोस्तों इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है की हमे किसी पर बहुत जल्दी अपनी राय नहीं बनानी चाहिए. ये एक छोटी सी कहानी हमे जिंदगी में बहुत बड़ा बात सिखाती है। सब कुछ हमारी सोच पर निर्भर करता है.

आप अपनी life की importance को समझिये और हमेशा साकारात्मक सोचिये यकीन सकारात्मक सोच आपकी पूरी लाइफ को शानदार बना देगा! दोस्तों दूसरों के बारे में बिना जाने राय बनाना बहुत गलत है. ऐसा करने से आप पहले तो नकारात्मक चीजों पर फोकस करने लगते हैं और फिर लोगों को बुरा महसूस कराते हैं और कुछ टाइम बाद ये आपकी आदत ही बन जाती है. कई बार हम बेकार के comparisons में पड़ जाते है जैसे मेने इसके लिए इतना सब कुछ किया और इसने मेरे लिए क्या किया. ये भगवन हमे अंदर से इतना कठोर बना देती है की हम अपना रिश्ता ही खराब कर देते है कभी किसी को पूरी तरह से जाने बिना आंके नहीं, क्योंकि आपको नहीं पता कि उसकी जिंदगी कैसी है और वह किन परिस्थितियों का सामना कर रहा है।

अपनी सोच को बदलो यकीन मानो आपके जीने का नजरियां बदल जायेगा.