आंखों की रोशनी बढाने (चश्मा हटाने) के लिए सरल योगा Eye Yoga to Improve Your Eyesight

आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए आसान और टॉप योगा टिप्स Yoga for Improve Eyesight

%e0%a4%86%e0%a4%81%e0%a4%96%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b0%e0%a5%8c%e0%a4%b6%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a5%9d%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bfआँखे हमारे शरीर का एक अहम हिस्सा हैं. आँखों के बिना हम किसी भी कार्य को नही कर सकते. आँखों के माध्यम से हम इस दुनिया को देख सकते हैं अलग-अलग प्रकार के रंगों को पहचान सकते हैं. इसलिए आँखों का खास ख्याल रखना बहुत ही जरुरी होता है.

आजकल की भागदौड़ भरी जीवन शैली के चलते हम अपने शरीर का ख्याल नही रख पाते. जिससे हमारा शरीर में अनेक समस्याएं हो सकती है. आजकल लोग अधिक देर तक कंप्यूटर आदि में काम करते हैं या घण्टो टीवी के सामने बैठे रहते हैं जिससे लोगो की आँखों में बुरा प्रभाव पड़ता है और आँखों की रौशनी कम होने लगती हैं. जिससे अनेक लोगो की आँखों में कम उम्र में ही चश्मा लग जाता हैं. आँखों की अनेक परेशानियों को दूर करने और आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए आँखों को व्यायाम की जरूरत पड़ती है. आँखों के लिए अनेक प्रकार के व्यायाम होते हैं जिनकी मदद से हम अपनी आँखों की रौशनी को तो बढ़ा ही सकते हैं साथ ही अपने आँखों को अनेक रोगों से भी दूर रख सकते हैं. यदि आप भी चाहते हैं की आपके आँखों स्वस्थ तथा खूबसूरत बनी रहे तो नियमित रूप से योगा और व्यायाम करें.

आँखों की रौशनी बढाने के लिए आसान योगा Easy Yoga increase eyesight

शवासन बढाए आँखों की रौशनी (Shavasana increase eyesight) – शवासन हमारी आँखों की रोशनी बढ़ाने में बहुत ही सहायक होता है. इस आसन को करने से ना केवल हमारी आँखों की रौशनी बढ़ती है बल्कि हमारे आँखे भी पूर्ण रूप से स्वस्थ रहती हैं. 

शवासन करने की विधि The method of Shavasana

  • इस आसान को करने के लिए सबसे पहले मन को शांत करें.
  • अब पीठ के बल किसी दरी आदि में लेट जाए.
  • अपने पैरो को ढीला छोडकर हाथों को शरीर से सटाकर बगल में रख लें.
  • अब अपने शरीर को पूरी तरह से फर्श पर स्थिर होने दें. इस आसान को करने से आँखों को आराम मिलता है और आँखों की रौशनी बढ़ती है.

सर्वांगासन से आँखों की रौशनी बढाए  Srwangasn increase the eyesight – सर्वांगासन हमारी आँखों के लिए बहुत ही लाभदायक आसान है इस आसान को करने से हम अपनी आँखों को स्वस्थ रख सकते हैं. इस आसान को कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है. इस आसान के माध्यम से आँखों में होने वाले अनेक रोगों को आसानी से दूर किया जा सकता है.

सर्वांगासन करने की विधि The method of Srwangasn

  • इस आसान को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल सीधा लेट जाएँ.
  • आपके पैर मिले हुए, हाथों को दोनों ओर बगल में सटाकर हथेलियाँ जमीन की ओर करके रखें.
  • श्वास अन्दर भरते हुए आवश्यकतानुसार हाथों की सहायता से पैरों को धीरे-धीरे 30 डिग्री, फिर 60 डिग्री और अन्त में 90 डिग्री तक उठाएँ.
  • 90 डिग्री तक पैरों को न उठा पाएँ तो 120 डिग्री पर पैर ले जाकर व हाथों को उठाकर कमर के पीछे लगाएँ।
  • वापस आते समय पैरों को सीधा रखते हुए पीछे की ओर थोड़ा झुकाएँ.
  • दोनों हाथों को कमर से हटाकर भूमि पर सीधा कर दें.
  • अब हथेलियों से भूमि को दबाते हुए जिस क्रम से उठे थे उसी क्रम से धीरे-धीरे पहले पीठ और फिर पैरों को भूमि पर सीधा करें.

त्राटक आसन से आँखों की रौशनी बढाए  Traṭaka posture increase eyesight – अनेक लोगो की आँखों में कम उम्र में ही चश्मा लग जाता है और चश्मे का नंबर बढ़ते जाता है. ऐसे लोगो के लिए त्राटक आसन बहुत ही फायदेमंद होता है. इस आसान को करने से आँखों की रौशनी बढ़ती है जिससे आँखों पर लगा चश्मा निकल जाता है.

त्राटक आसन करने की विधि The method of Traṭaka posture

  • त्राटक आसन को करने के लिए किसी अँधेरे कमरे का चुनाव करें. इस आसान को रात में करना फायदेमंद होता है.
  • त्राटक आसन को करने के लिए अँधेरे कमरे में एक मोमबत्तियो जलाये.
  • अब इस मोमबत्ती के सामने प्राणायाम की स्थिति में बैठ के बिना पलकें झपकाए मोमबत्ती को देखते रहें.
  • इसके बाद आँखे बंद करके ओम का उच्चारण करें और फिर आंख खोल लें.
  • इस क्रिया को तीन बार करें.
  • इसके बार अपनी दोनों हथेलियों को आपस में रगड़े.
  • अब अपनी गर्म हथेलियों से अपनी आँखों को स्पर्श करें और आँखे खोल लें.
  • जब भी आप आँखे खोले तो आपकी नजर आपकी नाक पर होनी चाहिए. इस आसान को हफ्ते में कम से कम तीन बार करें.

देव ज्योतिमुद्रा Dev Jyotimudraa increase eyesight – देव ज्योतिमुद्रा आँखों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है. जो लोग योग आदि नही कर सकते उनके लिए देव ज्योतिमुद्रा लाभदायक होता है. देव ज्योतिमुद्रा को हांथो की उंगलियो द्वारा किया जाता है. यह आँखों की रौशनी को बढ़ाने के लिए बहुत ही सरल लाभदायक मुद्रा होती है.

देव ज्योतिमुद्रा करने की विधि The method of Dev Jyotimudraa

  • देव ज्योतिमुद्रा को करने के लिए सबसे पहले तर्जनी ऊगली को मोड़कर अंगूठे की जड़ में लगाए.
  • इस मुद्रा को 40-60 सेकंड तक ऐसे ही रहें. इस मुद्रा को सुबह-शाम कम से कम 6 बार करें.

अनुलोम विलोम प्राणायाम है आँखों के लिए लाभदायक Anulom vilom pranayama beneficial for the eyes – अनुलोम विलोम प्राणायाम से हम अपनी आँखों की तमाम समस्यायों को आसानी से समाप्त कर सकते हैं और इस आसान को करने से आँखों की रौशनी भी बढ़ती है. इस आसान को कोई भी व्यक्ति कर सकता है.

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने की विधि The method of Anulom vilom pranayama

  • अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने के लिए सबसे पहले पालकी मोड़कर बैठ जाए.
  • अपनी कमर और गर्दन को सीधा रखें.
  • अब अपनी आंखें बंद कर लें.
  • अब अपने हाथो को नासारन्ध्र यानि नाक के छेद के पास लें जाए.
  • अब अपनी बीच की अंगुलियों को सीधा रखते हुए अंगूठे से दाएं नासारन्ध्र को बंद कर लें.
  • अब अपने सीधे हाथ को नासारन्ध्रों पर ले जाएं और बाएं नासारन्ध्र से धीरे-धीरे सांस को बाहर की ओर निकालें.
  • सांस छोड़ने के बाद अब बाएं नासारन्ध्र से ही सांस भरना प्रारंभ करें.
  • अधिक से अधिक सांस भरने के बाद बाएं नासारन्ध्र को अंगुलियों की मदद से बंद कर लें व अंगूठे को दाएं नासारन्ध्र से हटाकर दाईं नाक से सांस को धीरे-धीरे बाहर निकालें.
  • इसे कम से कम पांच मिनट तक करते रहें इससे आँखों की रौशनी आसानी से बढ़ाई जा सकती है.

आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए कुछ आसान एक्सरसाइज Some simple exercises increase eyesight

व्यायाम 1 (exercises – 1) – अपनी आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए अपने दोनों जथो को आपस में रगड़े. अब इन गर्म हाथो को अपनी आँखों पर रखें. थोड़ी देर बाद हाथो को आँखों से हटाये. फिर धीरे-धीरे आँखों को खोले. इससे आँखों का स्ट्रेस समाप्त हो जाता है.

व्यायाम 2 (exercises – 2) – आँखों का फोकस बढाने के लिए किसी ऐसे टारगेट को चुने जो आपकी नजरो से दूर हो. अब इस टारगेट को देखने की कोशिश करें. रोजाना करीब दस मिनट तक इस व्यायाम को करे. इससे दूर की नजर तेज होने लगती हैं.

व्यायाम 3 (exercises – 3) – अपनी पलको को झपकाकर आप आँखों पर देर तक रहने वाले तनाव को कम कर सकते है. करीब तीन चार सेकंड तक अपनी पलको को झपकाते रहे. फिर अपनी आँखों को तेजी से बन्द कर लें. कुछ देर बाद अपनी आँखों को खोले. इससे आँखों को आराम मिलता है.

व्यायाम 4 (exercises – 4) – अपनी गर्दन को सीधा रखें. अब अपनी आँखों की पुतलियों को पहले 4-6 बार ऊपर नीचे और फिर दाएं-बाएं घुमाएं. इसके बाद क्लॉकवाइज और एंटी-क्लॉकवाइज की स्थिति में कम से कम 6 बार आँखों को दाएं-बाएं गोलाई में घुमाइए.