सेकंड हैंड कार खरीदने से पहले जान लें ये बात How to Buy a Used Car Second hand car buying tips

एक अच्छा सेकंड हैंड कार कैसे चुने How to buy a used second hand car

सेकंड हैंड कारआज के समय में मार्केट में कारों के इतने मॉडल आ गए हैं कि लोगों को साल दो साल में ही अपनी गाड़ी पुरानी लगती है। जिस कारण सेकंड हैंड कार कम कीमत में बाजार में उपलब्ध होने लगी हैं। हममे से ही कई लोग कम बजट के कारण पुरानी गाड़ियां खरीदने के बारे में सोचते है।

लेकिन जब हम किसी दूसरे और तीसरे ओनर की कार खरीदते हैं तो हमें बहुत ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होगी। कई बार ऐसा होता है कि आप कोई सेकेंड हैंड कार लेने जाते हैं और उसकी बाहरी खूबसूरती को देखकर इतने आकर्षित हो जाते हैं और बाद में आपको वही सारी चीजें परेशान करती हैं। इन्ही सब बातों को ध्यान में रखते हुए आज हम कुछ ऐसे उपाय लाये हैं जिन पर हर सेकेंड हैंड कार ग्राहक को जरूर गौर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें  –

सेकंड हैंड कार Second Hand Car Buying Tips-

अक्‍सर लोग गाड़ी के बाहरी रंगरूप को देखकर ही सेकेंड हैंड गाड़ी खरीद लेते हैं। लेकिन सबसे पहले हमें ये जांच लेना चाहिए कि कहीं ये कार एक्‍सीडेंटल तो नहीं है। इसके लिए सबसे पहले कार के रंग को चैक करें। कई बार गाड़ी के ऑरीजनल कलर और रीपेंटिंग में फर्क नजर आता है। गाड़ी के बोनट, दरवाजे के साथ डिक्‍की को भी भली प्रकार से चैक करें। कार के चारों दरवाजों को खोल कर चैक कर लें कि वे फिट है कि नहीं। 

सेकंड हैंड कार खरीदने से पहले कार के टायरों की जाँच कर ले कि सभी टायर एक ही साइज के हैं या नहीं। इसके साथ ही रिम के अलाइनमेंट की भी जांच करा लें। ध्यान रहे जिस कार के टायर ज्यादा घिसे हुए है वह कार बिल्कुल भी न खरीदें।

वैसे तो सेकंड हैंड कार बेचने वाले शोरूम कार को बहुत अच्छे से अंदर-बाहर से चमका देते हैं। ताकि ग्राहक को वह कार एक दम से पसंद आ जाये। ऐसे में इंजन को देखकर चैक करना काफी मुश्किल काम होता है। लेकिन फिर भी आप चैक करें कि कार का ऑयल लीक तो नहीं कर रहा। इसके बाद कार की बैटरी को चेक कर ले कि बैटरी किस कंपनी की है। साथ ही इंजन पर लिखे नंबर को आरसी के नंबर से अवश्य मिलाएं। और साथ ही कार के गियर, क्लच और ब्रेक आदि को भी जरूर चेक करे।

सेकंड हैंड कार खरीदने से पहले कार के अंदर सारे बटन चैक करना काफी जरूरी है। इसलिए कार लेने से पहले एसी, लाइट, वाइपर के साथ सारे पैनलों को अच्छे से चैक कर लें। ऐसा न हो कि घर पहुंच जाने के बाद कार में एक के बाद एक परेशानी आपको उसमे नजर आये। 

सेकंड हैंड कार खरीदने से पहले गाड़ी की टेस्ट ड्राइव जरूर कर लें। क्योकि कार की कई खामियां कार चलाने के बाद ही मालूम होती है।

टेस्ट ड्राइव में चेक कर ले कि कहीं कार एक साइड तो नहीं भाग रही, कार का इंजन चलाने में स्मूथ है या नहीं या फिर स्टेयरिंग में कोई कमी तो नहीं है। इन सभी बातों का ध्यान रखे.

सेकंड हैंड कार खरीदने से पहले कार के सभी डॉक्युमेंट अपने पास रख ले। साथ ही सभी डॉक्युमेंटस की अच्छे से जाँच भी कार ले. कार का सर्विस, रिकॉर्ड, रजिस्ट्रेशन, इंश्योरेंस सब कुछ चेक कार ले। और यह सुनिश्चित कर लें कि आप जो कार खरीद रहे हैं उसके पहले खरीदार ने आरटीओ टैक्स जो हर नई कार खरीदने वाले को देना होता है उसे चुकाया है या नहीं।